सहस्राब्दियों से मनुष्य आकाशीय पिंडों और पृथ्वी के मामलों पर उनके संभावित प्रभाव से मोहित रहा है। प्राचीन संस्कृतियों, जैसे कि यूनानी, रोमन, चीनी और भारतीय, ने अपने पीछे समृद्ध ज्योतिषीय विरासत छोड़ी है, जो आज भी लोगों को आकर्षित करती है। इस लेख में हम कुछ सबसे प्रमुख ज्योतिष प्रणालियों का पता लगाएंगे, जिनमें पश्चिमी ज्योतिष, ज्योतिष (भारतीय ज्योतिष), चीनी ज्योतिष और माया ज्योतिष शामिल हैं।

पाश्चात्य ज्योतिष:

पश्चिमी दुनिया में सबसे प्रचलित प्रणाली, पश्चिमी ज्योतिष, ने हमारे तर्कवादी सामाजिक विचारों और वैज्ञानिक झुकावों में सफलतापूर्वक प्रवेश कर लिया है। इस प्रणाली की कभी-कभी यहूदी और ईसाई धर्म के अनुयायियों द्वारा भी सराहना की जाती है, जो इसे ‘गुप्त विज्ञान’ नहीं मानते। पश्चिमी ज्योतिष शास्त्र आकाश को 12 बराबर भागों में विभाजित करता है, जिन्हें उष्णकटिबंधीय राशि चक्र के रूप में जाना जाता है।

ज्योतिष (भारतीय ज्योतिष):

ज्योतिष, जिसे हिन्दू या वैदिक ज्योतिष के रूप में भी जाना जाता है, की उत्पत्ति प्राचीन वैदिक संस्कृति में हुई, जिसने उपनिषदों को जन्म दिया। यह प्रणाली आकाश को 27 असमान क्षेत्रों में विभाजित करती है जिन्हें चंद्र भवन या नक्षत्र कहा जाता है। पश्चिमी उष्णकटिबंधीय राशि चक्र के विपरीत, ज्योतिष के चंद्र भवन आकार में भिन्न हैं, और चंद्रमा की प्रमुखता इस प्रणाली का अद्वितीय आधार है।

चीनी ज्योतिष:

चीनी ज्योतिष 12-वर्षीय चक्र पर आधारित है, जिसमें प्रत्येक वर्ष किसी विशेष पशु चिन्ह से जुड़ा होता है। यद्यपि चीनी ज्योतिष में राशि चक्र के 12 चिह्नों का प्रतिनिधित्व किया जाता है, लेकिन वे पश्चिमी राशि चक्र के समान क्रम का पालन नहीं करते हैं। उदाहरण के लिए, चीनी ज्योतिष में चूहा और बैल एक दूसरे के सीधे अनुयायी होते हैं, जबकि पश्चिमी राशि चक्र में मेष राशि, मीन राशि के सीधे अनुयायी होते हैं।

माया ज्योतिष:

प्राचीन माया सभ्यता के ज्योतिषशास्त्र, जो वर्तमान मध्य अमेरिका में निवास करते थे, का आधार त्ज़ोल्किन नामक 260-दिवसीय कैलेंडर था। इस कैलेंडर में 20 राशियाँ और 13 अंक हैं, जो 260 विभिन्न संयोजन बनाते हैं, जो विभिन्न प्रकार के दिनों का निर्माण करते हैं। त्ज़ोल्किन कैलेंडर प्राचीन काल में विकसित किया गया था और आज भी प्रयोग में है।

यहां प्रस्तुत ज्योतिषीय प्रणालियां विश्वभर में ज्ञात अनेक प्रणालियों में से कुछ उदाहरण मात्र हैं। प्रत्येक प्रणाली में मानव और आकाशीय दुनिया की व्याख्या करने और जीवन की चुनौतियों और अवसरों के माध्यम से लोगों का मार्गदर्शन करने का अपना अनूठा तरीका है। चाहे आप ज्योतिष में विश्वास रखते हों या इन प्रणालियों के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व में रुचि रखते हों, ज्योतिष की विविध दुनिया की खोज करना एक आकर्षक और ज्ञानवर्धक अनुभव हो सकता है।

author avatar
Derek